You are here :- Home > Departments and Schemes>District Social Welfare Officer


District Social Welfare Officer, Kanpur Nagar

 

समाज कल्याण विभाग द्वारा किये जाने वाले कार्ययों को संक्षिप्त विवरण



समाजवादी पेंशन योजना योजनान्तर्गत
वे गरीब व्यक्ति जिन्हें किसी भी शासकीय पेंशन योजना का लाभ प्राप्त नहीं है, को लाभान्वित किया जाना है। वर्ष 2014-15 में जनपद का लक्ष्य 81098 निर्धारित है। पात्र लाभार्थियों को धनराशि का भुगतान शासन स्तर से पी0एफ0एम0एस0 साफ्टवेयर के माध्यम से किया जा रहा है।
राष्ट्रीय वृद्वावस्था पेंशन योजना
वर्ष 2002 की बी0पी0एल0 सूची में अंकित परिवारों के 60 वर्ष से अधिक आयु के समस्त वृद्धजनों को रू0300/- प्रतिमाह तथा 80 वर्ष के ऊपर के वृद्धजनों रू0500/-प्रतिमाह की दर से पेंशन देने का प्राविधान है। ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायत तथा शहरी क्षेत्र में एस0डी0 एम0 को पेंशन स्वीकृति करने का अधिकार है।
 अनुसूचित जाति पूर्वदशम छात्रवृत्ति
प्रदेश सरकार द्वारा कक्षा 1 से 8 तक अध्ययनरत समस्त अनूसूचित जाति के छात्र- छात्राओं को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। इसमे आय का प्रतिबन्ध नही है। हाईस्कूल में पढने वाले जिन छात्रों के अभिभावकों की वार्षिक आये रूपया 2 लाख है उन्हे छात्रवृत्ति दी जाती है। कक्षा 1 से 5 तक 25/- कक्षा 6 से 8 तक 40/- कक्षा 9 तथा 10 में रूपया 60/- प्रति माह प्रति छात्र है। छात्रवृत्तिब्योरा scholarship.up.nic.in पर उपलब्ध है।
सामान्य वर्ग पूर्वदशम छात्रवृत्ति
कक्षा 1 से 5 तक 25/- कक्षा 6 से 8 तक 40/- कक्षा 9 तथा 10 में रूपया 60/- प्रति माह प्रति छात्र है। छात्रवृत्ति ब्योरा scholarship.up.nic.in पर उपलब्ध है। सामान्य वर्ग के उन्ही छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है जिनके अभिभावक गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे है।
अनुसूचित जाति/जनजाति दशमोत्तर छात्रवृत्ति
 दशमोत्तर कक्षाओं में अध्ययनरत अनुसूचित जाति के उन छात्रों जिनके अभिभावकों की वार्षिक आय रूपया 2.00 लाख से अनधिक है, को शासन द्वारा निर्धारित दरों पर छात्रवृत्ति एवं शुल्क की धनराशि प्रदान की जाती हैै।
सामान्य वर्ग दशमोत्तर छात्रवृत्ति
दशमोत्तर कक्षाओं में अध्ययनरत सामान्य जाति के उन छात्रों जिनके अभिभावकों की वार्षिक आय रूपया 2.00 लाख से अनधिक है, को शासन द्वारा निर्धारित दरों पर छात्रवृत्ति एवं शुल्क की धनराशि प्रदान की जाती हैै।
अनुसूचित जाति शादी/बीमारी अनुदान
गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले अनुसूचित जाति के लाभार्थियों को गम्भीर बीमारी के इलाज हेतु रू0 5000/- एवं उनकी पु़ित्रयों की शादी हेतुुुुु रू0 10000/- दिये जाने का प्रावधान है। स्वीकृति जनपद स्तर पर गठित समिति द्वारा की जाती है। जिससे जिलाधिकारी, अध्यक्षा तथा जिला समाज कल्याण अधिकारी, मा0 सांसद एवं मा0 विधायक सदस्य होते है।
सामान्य जाति शादी/बीमारी अनुदान
गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले सामान्य जाति के लाभार्थियों को गम्भीर बीमारी के इलाज हेतु रू0 5000/- एवं उनकी पु़ित्रयों की शादी हेतुुुुु रू0 10000/- दिये जाने का प्रावधान है। स्वीकृति जनपद स्तर पर गठित समिति द्वारा की जाती है। जिससे जिलाधिकारी, अध्यक्षा तथा जिला समाज कल्याण अधिकारी, मा0 सांसद एवं मा0 विधायक सदस्य होते है।
राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना
गरीबों रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार क कमाउ सदस्य जिसकी उम्र 18 से 59 वर्ष के मध्य हो, मृत्यु होने पर अवशेष परिवार के मुखिया को दिनांक 04.09.2013 से रू0 30000/- की सहायता दी जाती है।
अनुसूचित जाति अत्याचार निवारण अधिनियम के अन्तर्गत सहायता अनुसूचित जाति उत्पीड़न सहायता अनुदानः- गैर अनुसूचित जाति के व्यक्तियों के अत्याचार से प्रभावित अनुसूचित जाति के परिवारों को पुलिस विभाग की संस्तुति पर निर्धारित दरों व नियमों के अनुसार आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इस योजना के अन्तर्गत परिवार के कमाने वाले व्यक्ति की हत्या अथवा स्थायी अपंगता में रू0 7,50,000/-, न कमाने वाले व्यक्ति को रू0 5,00,000/-, बलात्कार में 1,80,000/-, अन्य मामलों मे यथा मारपीट, गाली गलौज आदि में 80,000/- रू0 की आर्थिक सहायता स्वीकृत की जाती है, किन्तु हत्या में 75 प्रतिशत, बलात्कार में 50 प्रतिशत अन्य मामलों में 25 प्रतिशत धनराशि प्रथम चरण में एवं शेष धनराशि जिला न्यायलय के निर्णय के पश्चात दी जाती है। अनुदान स्वीकृति जिला समाज कल्याण अधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक तथा जिलाधिकारी के संयुक्त हस्ताक्षरों से तथा भुगतान ट्रैजरी चेक के माध्यम से किया जाता है।